सेट टॉप बॉक्स इंटरऑपरेबिलिटी (STB ) के बारे में सभी जानकारी

सेट टॉप बॉक्स इंटरऑपरेबिलिटी (STB ) के बारे में सभी जानकारी

सेट टॉप बॉक्स इंटरऑपरेबिलिटी (STB ) के बारे में सभी जानकारी ।

टीवी दर्शकों, सब्सक्राइबरों, केबल टीवी, डीटीएच, हिट्स, आईपीटीवी ऑपरेटरों के परिप्रेक्ष्य से विभिन्न पहलुओं को समझना।

1. इस लेख को केबल ऑपरेटर्स, जो कि उपभोक्ता के निकटतम संपर्क में रहते हैं, जहाँ कि अधिकतम  STBs, QAM पध्धति वाले मोडूलेशन प्रसारित, लगे हुए हैं, की जानकारी के लिए लिखा गया है. HITS भी केबल टीवी सामान ही है क्योंकि उसमें भी QAM का उपयोग होता है . DTT में  OFDM  और DTH में QPSK modulation किया जाता है. इन सब में input coaxial द्वारा ही होता है TVoIP की गणना अभी  नाम मात्र और नगण्य  है  जिस में input UTP केबल द्वारा होता है

2 इस लेख को समझने के लिए थोड़े से पुनह्स्मरण  की आवश्यकता है  क्योंकि CATV में सेवारत लोगों की तकनिकी साक्षरता कुछ निम्न स्तर की हो सकती है अथवा उन लोगों के लिए भी जो मानसिक रूप से मोबाइल टेलीफोन सेवाओं से तुलना करर्ते हैं. इस लिए CATV उपखंड के लोगों को समझाने के लिए प्रारंभिक एलेक्ट्रोनिकी कंटेंट प्रसारण श्रंखला कुछ इस प्रकार है

3 इस प्रवाह चित्र में कंटेंट की  एक लिखित पत्र समानता से  तुलना की गयी है ,चिठ्ठी लिख कर लिफाफे में बंद की जाती है, लिफाफा बन जाता है RF कैरियेर जिसका निर्माण मोडूलेटर में होता है , वितरण माध्यम की तुलना हम डाक विभाग की पत्र पेटी से कर सकते हैं , लिफाफा डाक पेटी की तरह transmitter में डाल दिया जाता है  प्रसारण माध्यम तारिक या बेतार दोनों में से कोई भी एक हो सकता है  और वोह लिफाफा लोगों के घर के लैटर बाक्स तक पहुँचता है. इस चित्रण में STB उस घरेलू लेटर बाक्स की तरह काम करेगा. कंटेंट को STB लिफाफे की तरह खोल कर TV पर दर्शा देता है ….तो है न यह सब डाक व्यवस्था की तरह

4. यह एक kindergarten स्तर की समझ द्वारा सम्बोधानशील प्रसारण तकनिकी को समझने के लिए ही वर्णित है जिस के अंतर्गत CATV नेटवर्क काम करते हैं

5 लिखित पत्र के समान ही Headend में कंटेंट को व्यव्हार मिलता है  जिसमें इसका अंकीकरण (Digital Encoding) और विप्रीतिकरण (decoding) निर्देशों के साथ carrier में बंद कर के प्रसारण मंच पर संचालित कर दिया जाता है

6  प्रवाह चित्र में विभिन्न स्त्रोतों से कंटेंट की प्राप्ति के पश्चात् उसका अंकीकरण (Digital Encoding) किया जाता है , दर्शन अधिकरण (viewing authorization)  प्रबंधन , अंकीकरण निरस्तीकरण संदशों के समावेश के साथ modulation, सम्मिश्रण (combining) और प्रसारण स्तर सशक्तिकरण के पश्चात् इसे प्रसारण मंच के माध्यम से दर्शक तक पहुंचाया जाता है …यह मंच satellite, terrestrial या केबल नेटवर्क हो सकते हैं

STBinteroperability

आगे पढ़ना जारी रखने के लिए, यहां क्लिक करें

यह न्यूज आप को SATiiTV.COM और
सैटेलाइट @ इंटरनेट इंडिया मैगज़ीन के सौजन्य से प्रस्तुत है।

जुड़े रहने के लिए, Dowload SIIMAG डिजिटल ऐप
मुफ्त डाउनलोड

Related posts